Advertisement
Home Bihar बिहार कृषि इनपुट अनुदान योजना 2020 , ऐसे करें आवेदन

बिहार कृषि इनपुट अनुदान योजना 2020 , ऐसे करें आवेदन

Bihar Krishi Input Anudan Yojana Registration Online: बिहार में बारिश एवं ओलावृष्टि से हुई फसलों की क्षति के लिए कृषि इनपुट अनुदान योजना 2020 के तहत किसानों को प्रति हेक्टेयर के हिसाब से 13,500 रूपये का अनुदान दिया जायेगा , ऐसे करें आवेदन

0
dbt agriculture.bihar.gov.in registration
dbt agriculture.bihar.gov.in registration

बिहार: राज्य में रबी फसल 2019-20 के फरवरी माह के महीने में हुई बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि के कारण फसलों को बारी नुकसान हुआ है । किसानों को खड़ी फसलों में हुए इस नुकसान की भरपाई के लिए राज्य सरकार ने प्रतिवेदित 11 जिलों में कृषि इनपुट अनुदान योजना (2019-20) के तहत अनुदान (मुआवजा) देने का निर्णय लिया है । आइये जाने की बिहार राज्य के किन-किन जिलों के किसानों को इस फसली नुकसान की भरपाई के लिए कितना अनुदान राशि सरकार द्वारा दी जाएगी और साथ ही इसके लिए आपको किस प्रकार ऑनलाइन आवेदन करना होगा इसके बारे में विस्तृत जानकारी ।

बिहार कृषि इनपुट अनुदान योजना के तहत कितना अनुदान दिया जायेगा ?

प्रदेश के कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने बताया की रबी फसल 2020 के फरवरी माह में असमय वर्षा/आंधी/ओलावृष्टि से जिन किसानों की फसलों में क्षति हुई है, उन्हें भारत सरकार द्वारा अधिसूचित प्राकृतिक आपदाओं एवं राज्य सरकार द्वारा स्थानीय आपदाओं के अधीन निर्धारित मापदंडों के अनुरूप अनुदान राशि प्रदान की जाएगी , जो की निम्नलिखित रूप से है।

Advertisement

अनुदान राशि इस प्रकार दी जाएगी..

  • असिंचित फसल क्षेत्र के लिए 6,800 रुपये प्रति हेक्टेयर की दर से अनुदान दिया जायेगा ।
  • सिंचित क्षेत्र के लिए किसानों को 13,500 रुपये प्रति हेक्टेयर की दर से अनुदान राशि प्रदान की जाएगी ।

कृषि इनपुट अनुदान (सब्सिडी) योजना के तहत किन-किन जिलों के किसान आवेदन कर सकते है ?

यह योजना बिहार के केवल 11 प्रतिवेदित जिलों के लिये मान्य है, अगर आप यहाँ दिए गये जिले में आते है तो आप भी इस स्कीम का लाभ लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन फॉर्म जमा करवा सकते है. जिले इस प्रकार है :- औरंगाबाद, भागलपुर, बक्सर, गया, जहानाबाद, कैमूर, मुजफ्फरपुर, पटना, पूर्वी चंपारण, समस्तीपुर और वैशाली

किसान अनुदान योजना हेतु पंजीकरण (ऑनलाइन आवेदन) की अंतिम तिथि 23 मार्च

कृषि इनपुट अनुदान योजना के अंतर्गत फसल नुकसान की भरपाई के लिए सम्बन्धित जिलों के किसान स्कीम का लाभ लेने के लिए आगामी 23 मार्च ,2020 तक अपना फॉर्म ऑनलाइन प्रकिरिया के द्वारा रजिस्ट्रेशन करवा सकते है । खबर लिखे जाने तक बिहार के चयनित 11 जिलों के कुल 1,42,955 किसानों द्वारा कृषि इनपुट अनुदान के लिए आवेदन किया जा चुका है ।

इसे भी पढ़े :पीएम किसान सम्मान निधि योजना के 2000 रुपये नहीं मिले तो यहां करें शिकायत

प्रदेश के कृषि मंत्री श्री प्रेम कुमार ने किसानों से अपील किया कि वो ऑनलाइन आवेदन कर सरकार की इस योजना का अधिक से अधिक संख्या में लाभ उठाएं । अगर आप भी इस योजना का लाभ लेना चाहते है तो नीचे प्रदान की प्रकिरिया द्वारा आज ही अपना फॉर्म रजिस्ट्रेशन का कार्य करवायें ।

ऐसे करें किसान ऑनलाइन पंजीकरण

Krishi Input Anudan Yojana Bihar 2020 : इस योजना के लिए ऑनलाइन पंजीकरण करवाना बेहद आसान है , इसके लिए किसान स्वयं अपने मोबाइल/लैपटॉप अथवा ई-किसान भवन से नि:शुल्क से डीबीटी पंजीकरण एवं अनुदान के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं.

बिहार कृषि इनपुट अनुदान योजना
krishi input anudan yojna bihar online form registration

आप बिहार सरकार ऑफिसियल वेबसाइट www.krishi.bih.nic.in पर दिये गये DBT Farmer Registration लिंक dbtagriculture.bihar.gov.in/RegFarmer/ पर जाकर अपना Aadhaar Number डालकर रजिस्ट्रेशन करवा सकते है .

इसके अलावा किसान अपने किसी भी नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर/वसुधा केंद्र पर जाकर मात्र 10 रुपये शुल्क का भुगतान कर अपना आवेदन करवा सकते हैं.

Bihar Krishi Input Subsidy Scheme से सम्बन्धित अन्य महत्वपूर्ण सवाल -जवाब

कृषि इनपुट अनुदान योजना किस राज्य में चलाई जा रही है ?

कृषि इनपुट अनुदान योजना बिहार राज्य के लिए चलाई जा रही है .

रबी फसल 2020 असमय वर्षा/आँधी/ओलावृष्टि के लिए कौन-कौन से जिलों को अनुदान दिया जायेगा ?

रबी मौसम के फ़रवरी 2020 माह मे असमय वर्षा/आँधी/ओलावृष्टि के कारण प्रभावित रबी फसलों के लिए अनुदान बिहार के केवल 11 जिलों (औरंगाबाद, भागलपुर, बक्सर, गया, जहानाबाद, कैमूर, मुजफ्फरपुर, पटना, पूर्वी चंपारण, समस्तीपुर, वैशाली) के लिये मान्य है .

योजना का लाभ अधिकतम कितनी भूमि तक दिया जायेगा ?

इस योजना का लाभ फिलहाल अधिकतम 2 हेक्टेयर (494 डिसिमिल भूमि ) तक के लिए देय है.

कृषि इनपुट अनुदान योजना रजिस्ट्रेशन के लिए आवश्यक दस्तावेज क्या चाहिए ?

किसान का प्रकार “स्वयं भू-धारी ” होने की स्थिति मे भूमि के दस्तावेज़ के लिए (एलपीसी/जमीन रसीद/वंशावली/जमाबंदी/विक्रय-पत्र),”वास्तविक खेतिहर” के स्थिति में स्व-घोषणा प्रमाण पत्र तथा “वास्तविक खेतिहर + स्वयं भू-धारी” के स्थिति में भूमि के दस्तावेज़ के साथ-साथ स्व-घोषणा पत्र संलग्न करना अनिवार्य है |  स्व-घोषणा प्रमाण पत्र डाउनलोड करें.

क्या आधार कार्ड का बैंक खाते से लिंक होना जरुरी है ?

जी हाँ यह जरुरी है क्योंकि कृषि विभाग के विभिन्न योजना में लाभ लेने के लिए आधार से लिंक बैंक खाता अनिवार्य है | योजना की राशि आधार से लिंक बैंक खाते में हीं अंतरित की जाएगी| आवेदक कृपया आधार से लिंक बैंक खाता की प्रविष्टि करें 

क्या आवेदन फॉर्म को ऑनलाइन भरे जाने के बाद गलती को सुधार जा सकता है ?

आवेदन सबमिट होने के बाद यदि आवेदन में कोई भी त्रुटि हो तो, त्रुटि का बदलाव 48 घंटे के अंदर कर लें, अन्यथा आवेदन उसी रूप में 48 घंटे के बाद संबन्धित कृषि समन्वयक को जांच हेतु अग्रसारित हो जायेगा और संबन्धित त्रुटि में कोई भी बदलाव संभव नहीं होगा |

कृषि इनपुट अनुदान योजना में कितना लाभ (राशि) मिलेगा ?

असिंचित फसल क्षेत्र के लिए किसानों को 6,800 रुपये प्रति हेक्टेयर तथा सिंचित क्षेत्र के लिए किसानों को 13,500 रुपये प्रति हेक्टेयर की दर से अनुदान राशि दी जायेगी.

Bihar Krishi Input Anudan Yojana से सम्बन्धित अन्य किसी भी प्रकार की जानकारी लेने के लिए आप हमें नीचे दिए कमेंट बॉक्स में लिखे , आपकी सरकारी योजना फॉर्म टीम के द्वरा हर सम्भव मदद की जायेगी .

Print Friendly, PDF & Email
Advertisement

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here