(Gobar Kharid CG) गोधन न्याय योजना 2020: ऑनलाइन आवेदन लाभ व पात्रता

3
Godhan Nyay Yojana in Chhattisgarh
Godhan Nyay Yojana in Chhattisgarh

Godhan Nyay Yojana in Chhattisgarh | Gobar Kharid Yojana 2020 | गोधन न्याय योजना रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया | छत्तीसगढ़ गोधन न्याय स्कीम आवेदन फॉर्म | Godhan Nyay Scheme In Hindi | गोबर खरीद योजना

रायपुर : छत्तीसगढ़ देश का पहला ऐसा राज्य बनने जा रहा है, जहां पशुपालकों को लाभ पहुँचाने के लिए “गोधन न्याय योजना ” की शुरुआत की जा रही है। माननीय मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने और गाँवो में रोजगार तथा पशुपालकों की अतिरिक्त आय को बढ़ाने के उद्देश से इस योजना को शुरू करने की घोषणा की गई थी । इस Godhan Nyay Yojana के तहत राज्य सरकार द्वारा अब गांवों से निर्धारित दर (मूल्य) पर गौठान समितियां पशुओं का गोबर खरीदेने का कार्य शुरू करेगी ।

उन्नत किसान पुरस्कार योजना

राज्य के महत्वकांक्षी कार्यक्रम नरवा, गरुवा, घुरुआ और बाड़ी के स्वीकृत गोठानो को रोजगारमुखी बनाने हेतु “गौधन न्याय योजना” का अनुमोदन किया गया । प्रदेश में हरेली पर्व से इस स्कीम की शुरुआत होगी। जिसके लिए अब तक 5300 गोठान स्वीकृत किये जा चुके है, जिनमे से ग्रामीण क्षेत्रों में 2408 और शहरी क्षेत्रों में 377 गोठान बन चुके है।

Chhattisgarh Government launch Godhan Nyay Yojana 2020

Godhan Nyay Yojana Chhattisgarh | गोधन न्याय योजना छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ राज्य सरकार द्वारा शुरू की जा रही गोधन न्याय योजना के तहत प्रदेश के किसानों व पशुपालकों से 1.5 रुपए/किलो की दर से गोबर (Cow dung) की खरीद की जायेगी । इस योजना को राज्य में हरेली त्यौहार के मौके पर 21 जुलाई 2020 को आधिकारिक रूप से शुरू किया जाएगा । योजना शुरू होने के बाद छत्तीसगढ़ देश का पहला एकमात्र ऐसा राज्य होगा जो की गोबर की खरीद शुरू करेगा।

ये भी पढ़े:  राजीव गांधी किसान न्याय योजना छत्तीसगढ़, 19 लाख किसानों को दूसरी किश्त में दिए गये 1500 करोड़

Key Highlights of Godhan Nyay Yojana Chhattisgarh

योजना का नामगोधन न्याय योजना 2020
इनके द्वारा शुरू की गयीछत्तीसगढ़ राज्य सरकार द्वारा
घोषणामुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा
लॉन्च की तारीख21 जुलाई 2020
लाभार्थीछत्तीसगढ़ राज्य के किसान और पशुपालक
उद्देश्यकिसानों और पशुपालकों को अतिरिक्त आय के साथ-साथ ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करना और वर्मी कम्पोस्ट के उत्पादन को बढ़ावा देना

गौधन न्याय योजना लाभ:

छत्तीसगढ़ राज्य सरकार द्वारा शुरू की जा रही इस Godhan Nyay Scheme के माध्य से किसानों और पशु पालन का कार्य करने वाले लाखों लोगों को प्रति माह 3 से 4 हजार रूपये की अतिरिक्त आय प्राप्त हो सकेगी। इसके अलावा सरकार इस गोबर की खरीद कर इससे वर्मी कम्पोस्ट खाद तैयार करेगी। इस खाद का उपयोग जैविक तरीके से खेती करने वाले किसान अपने खेतों में कर फसल उत्पादन में बढ़ोतरी कर सकेंगे। इसके अलावा अन्य लाभ निम्नलिखित रूप से है…

  • इस योजना के तहत किसानों और पशुपालकों से निर्धारित दर पर गोबर की खरीद की जायेगी .
  • गौधन के संरक्षण और संवर्धन को बढ़ावा मिलेगा .
  • ग्रामीण इलाकों में रोजगार के नये अवसर पैदा हो सकेंगे और महिलाओं को रोजगार मिलेगा.
  • किसानों और पशुपालकों को अतिरिक्त आय के साथ -साथ ग्रामीण अर्थव्यवस्था को भी मजबूती मिलेगी
  • राज्य में जैविक खेती के विकास में योगदान मिलेगा तथा खेती की जमीन की गुणवत्ता को बनाए रखने में मदद मिलेगी .
  • वर्मी कम्पोस्ट खाद के उत्पादन में बढ़ोतरी होगी .
ये भी पढ़े:  Sahara Yojana for Poor Patients - Himachal Pradesh | सहारा योजना

इस प्रकार रहेगा योजना का क्रियान्वयन और रूपरेखा

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक प्रथम चरण में राज्य के 2200 गौठानों में गोबर खरीदी और वर्मी कम्पोस्ट खाद बनाने का कार्य शुरू किया जाएगा । जिलों में स्थित सभी गौठानों के क्रियान्वयन की मॉनिटरिंग का कार्य जिला कलेक्टर द्वारा किया जाएगा । इसके अलावा कलेक्टरों को मनरेगा से गौठानों में वर्मी टैंक बनवाने और वर्मी खाद प्रसंस्करण के लिए आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराने का दायित्व दिया गया है।

godhan nyay scheme news in hindi

जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला स्तर पर गोधन न्याय योजना के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए संबंधित विभागों से समन्वय स्थापित करने का काम करेंगे।  गौठान समितियों की ओर से पशुपालकों से गोबर की खरीदी की जाएगी। प्रतिदिन इसका लेखा-जोखा रखा जाएगा। स्व-सहायता समूह की ओर से तैयार किए गए वर्मी खाद के गुणवत्ता परीक्षण के बाद इसकी पैकेजिंग और भंडारण गौठानों में किया जाएगा। सहकारी संस्थाओं के माध्यम से किसानों को वर्मी कम्पोस्ट का विपणन किया जाएगा। गौठानों में तैयार वर्मी कम्पोस्ट कृषि विभाग, उद्यानिकी विभाग, वन विभाग और शहरी विकास विभाग द्वारा अपनी जरूरत के अनुसार खरीदा जाएगा।

धान रोपाई अनुदान योजना

योजना सम्बन्धी महत्वपूर्ण प्रश्न -उत्तर FAQ

गोधन न्याय योजना क्या है ?

छत्तीसगढ़ राज्य सरकार द्वारा गोठानो को रोजगारमुखी बनाने हेतु शुरू की गई एक महत्वकांक्षी सरकारी योजना है, जिसके अंतर्गत सरकार द्वारा राज्य के पशुपालकों और किसानों से गोबर खरीदा (Gobar Kharida) जाएगा ।

गोधन न्याय स्कीम की शुरुआत कब होगी ?

छत्तीसगढ़ में गोधन योजना की शुरुआत आधिकारिक तौर पर हरेली पर्व (21 जुलाई 2020) से होने जा रही है.

सरकार द्वारा गोधन न्याय योजना के तहत गोबर (Cow Dung) किस दर/कीमत (Rate) पर लिया जाएगा?

किसानों व पशुपालकों से 1.5 रुपए/किलो की दर से गोबर खरीदा जाएगा.

Print Friendly, PDF & Email

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here