मध्यप्रदेश के 35 लाख किसानों को किया 1600 करोड़ रुपये का भुगतान

0
मध्यप्रदेश फसल नुकसान राहत राशि 2020

फसल नुकसान राहत राशि रायसेन (MP): मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा शुक्रवार 18 दिसम्बर 2020 को रायसेन में आयोजित किसान महासम्मेलन में प्रदेश के तकरीबन 35.50 लाख से अधिक किसानों के बैंक खातों में फसल नुकसान के लिए 1600 करोड़ रुपये की फसल नुकसान राहत राशि का भुगतान ट्रांसफर किया गया। जी हाँ इस वर्ष यानि खरीफ सीजन-2020 में अधिक बारिश, ओलावृष्टि एवं कीट-रोग इत्यादि के प्रकोप के चलते फसलों को काफी नुकसान हुआ था, मध्य प्रदेश के किसानों को हुए इस फसली नुकसान की राहत राशि सीधे किसानों के बैंक खातों में अंतरित की यानि कोई बिचौलिए नहीं, कोई कमीशन नहीं। इसे भी देखें: खरीफ सीजन 2019 की फसल बीमा लिस्ट जिलेवार सूची MP

मध्यप्रदेश फसल नुकसान राहत राशि 2020

इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा प्रदेश के तकरीबन 35.50 लाख किसानों के खातों में फसली नुकसान की प्रथम किश्त के रूप में 1600 करोड़ रूपए की सहायता राशि हस्‍तांतरित की गई । इस मौके पर मुख्यमंत्री द्वारा 70 करोड़ रूपए से अधिक के कृषि अधोसंरचना विकास के कार्यों का भी शिलान्यास/लोकार्पण किया गया । साथ ही 2000 मत्स्य पालकों एवं पशुपालकों को किसान क्रेडिट कार्ड का वितरण भी किया गया।

पीएम मोदी ने भी किया किसानों को सम्बोधित

इस किसान महासम्मेलन में प्रदेश के सभी जिला, जनपद तथा ग्राम पंचायतों को वर्चुअली जोड़ा गया था, इस सम्मेलन में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भी किसानों को वर्चुअली संबोधित करते हुए अपने विचार सांझा किये । उन्होंने किसानों से कहा की पिछली सरकार द्वारा किसानों से किया गया कर्जमाफी का वादा पूरा नही किया गया और किसानों को कर्जमाफी की जगह बैंकों के नोटिस व गिरफ्तारी के वारंट मिले। आज किसानों के हित में किये जा रहे सुधारों के प्रति विपक्षी भ्रम फैला रहे हैं।

पीएम मोदी ने इस सम्मेलन में किसानों से कहा की “किसान भ्रमित ना हों, एमएसपी (MSP) पर खरीदी और मंडियां नहीं होंगी बंद, हमारी नियत गंगाजल जैसी पवित्र”

MP Kisan Rahat Rashi 2020 List

mp kisan rahat rashi 2020 list
mp kisan rahat rashi 2020 list 2

Web Title : 35 lakh farmers of madhya pradesh will get relief amount of 1600 crore rupees

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here