(सब्सीडी) फसल अवशेष प्रबंधन मशीनरी पर 80% का अनुदान, ये है पूरी योजना

2
फसल अवशेष प्रबंधन कृषि यंत्रों पर सब्सिडी

(आवेदन फॉर्म) फसल अवशेष प्रबंधन मशीनरी अनुदान (सब्सिडी) योजना 2020 -हरियाणा सरकार | फसल अवशेष प्रबंधन कृषि यंत्रों पर 80% की सब्सिडी | Haryana Fasal Avshesh Prabandhan Subsidy Yojana Form Apply

चंडीगढ़ : हरियाणा सरकार द्वारा प्रदेश के किसानों (Farmers) के लिए अच्छी खबर निकाल कर आ रही है , इस खबर के मुताबिक़ हरियाणा की खट्टर सरकार द्वारा प्रदेश के किसानों को फसल अवशेष प्रबंधन मशीनरी (Crop Residue Management Machinery) खरीदने के लिए अनुदान योजना (Subsidy Yojana) की शुरुआत की है।

हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण तथा पशुपालन मंत्री जेपी दलाल के मुताबिक हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने के लिए विभिन्न सरकारी योजनाओं (Government schemes) पर लगातार काम कर रही है, इन्ही योजनाओं के अंतर्गत राज्य में फसल अवशेष प्रबंधन यंत्रों पर सब्सिडी 2020 की शुरुआत जा चुकी है। इस योजना के तहत किसानों को फसल अवशेष प्रबंधन के लिए मशीनरी खरीदने पर 80% तक का अनुदान देने का प्रावधान रखा गया है। इसके अलावा राज्य में मृदा हेल्थ कार्ड (Soil Health Card) बनाने का काम भी तेजी के साथ किया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें : सोलर इन्वर्टर चार्जर योजना हरियाणा 2020

किसानों को मिलेगी फसल अवशेष प्रबंधन यंत्रों पर सब्सिडी

कृषि मंत्री जेपी दलाल ने कहा की सरकार चाहती है की भूमि की क्षीण (कमजोर) हो रही उर्वरा शक्ति को बचाने व बढ़ते वायु प्रदुषण को रोकने के लिए फसल अवशेष प्रबंधन पर मुख्य फोक्स किया जाए। इसको देखते हुए कृषि विभाग (Agriculture Department) ने पराली प्रबंधन के लिए मशीनरी व कस्टम हायरिंग सेन्टर खोलने के लिए किसान समूहों, व्यक्तिगत किसानों से फसल अवशेष प्रबंधन योजना 2020-21 के लिए 7 से 17 अगस्त, 2020 तक ऑनलाइन आवेदन मांगे है ताकि धान कटाई सीजन के साथ ही 1 से 15 अक्तूबर,2020 के बीच मशीनरी खरीदने के लिए सब्सिडी जारी की जा सकें।

ये भी पढ़े:  इंदिरा गांधी नहर के किसानों के लिए खुशखबरी, 23 अप्रैल से मिलेगा पानी

दलाल ने कहा कि दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को रोकने के लिए केन्द्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय तथा राष्ट्रीय हरित ट्रिब्यूनल पहले से ही गम्भीर है। उन्होंने कहा कि पर्यावरण  प्रदूषण को रोकना हम सबको अपनी जीवनशैली का हिस्सा बनाना होगा। 

उन्होंने कहा कि हरियाणा देश का ऐसा राज्य है, जहां पर कृषि विश्वविद्यालय, बागवानी विश्वविद्यालय तथा पशुविज्ञान विश्वविद्यालय हैं। किसानों की कृषि के साथ-साथ पशुपालन एवं बागवानी में किस प्रकार अधिक से अधिक आय बढ़ाई जा सके, इसके लिए नई-नई योजनाएं बनाई जा रही हैं।

हरियाणा फसल अवशेष प्रबंधन कृषि यंत्रों पर सब्सिडी के लिए आवेदन

हरियाणा फसल अवशेष प्रबंधन कृषि यंत्रों पर सब्सिडी के लिए आवेदन

फसल अवशेष प्रबंधन यंत्रों पर सब्सिडी योजना 2020-21 : राज्य सरकार द्वारा पराली प्रबंधन के लिए मशीनरी (कृषि उपकरण) खरीदने पर 80 फीसदी सब्सिडी देगी सरकार , इसलिए इस योजना के तहत आवेदन करने के इच्छुक किसान / किसान समूह 07 अगस्त से 17 अगस्त 2020 तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते है।

ये भी पढ़े:  हरियाणा राशन कार्ड ऑनलाइन 2020 [BPL- APL Registration]

इसे भी पढ़े : हरियाणा फसल बीमा क्लेम जारी यहाँ देखें लिस्ट 2020

फसल अवशेष प्रबंधन सब्सिडी योजना से सम्बन्धित किसानों द्वारा अक्सर पूछे जाने वाले सवाल-जवाब

फसल अवशेष प्रबंधन मशीनरी पर हरियाणा सरकार कितना अनुदान (सब्सीडी) दे रही है?

इस फसल अवशेष प्रबंधन मशीनरी योजना के तहत कृषि उपकरण खरीदने पर सरकार द्वारा किसानों को अधिकतम 80% तक का अनुदान देने का प्रावधान रखा गया है।

हरियाणा में फसल अवशेष प्रबंधन मशीनरी अनुदान योजना के लिए आवेदन करने की अंतिम तारीख क्या है ?

इस योजना के तहत आवेदन करने के इच्छुक किसान / किसान समूह 07 अगस्त से 17 अगस्त 2020 के मध्य अपना ऑनलाइन आवेदन फॉर्म प्रस्तुत कर सकते है।

मशीनरी खरीदने के लिए सब्सिडी राशि कब जारी की जायेगी ?

धान कटाई सीजन के साथ ही यानि 1 से 15 अक्तूबर,2020 के बीच मशीनरी खरीदने के लिए सब्सिडी राशि जारी की जायेगी।

Print Friendly, PDF & Email

2 COMMENTS

  1. kindly provide official site for application submission , u provide unwanted material instead of useful link for application.
    time line is limited with in 7 days , farmers are not much educated for searching ur site for application form plz provide direct link ur press release or news,
    thnks

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here